गरीब कल्याण रोजगार अभियान क्या है और इससे कैसे लाभ मिल सकता है

Garib Kalyan Yojana अभियान क्या है और इससे कैसे लाभ मिल सकता है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत 20 जून को की है, जिसके अंतर्गत दूसरे राज्य से लौटे हुई प्रवासियों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराए जाएंगे, जिनके पास आय का श्रोत अपने देश लौटने के बाद समाप्त हो चुका है। कोई भी इस योजना से वंचित ना हो और हर कोई इसका लाभ उठा पाए।

प्रधानमंत्री मोदी ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान की शुरुआत बिहार के खगरिया से की है, जिसमें सभी दिग्गज नेता वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़े हो। तो आइए आज हम आपको बताते हैं कि गरीब कल्याण रोजगार अभियान क्या है और इस अभियान के तहत क्या-क्या काम करने को मिल सकता है। इतना ही नहीं हम आपको यह भी बताएंगे कि गरीब कल्याण रोजगार अभियान के लिए आवेदन कैसे करें।

1. गरीब कल्याण रोजगार अभियान क्या है

2. गरीब कल्याण रोजगार अभियान में कैसे आवेदन करें

3. गरीब कल्याण रोजगार अभियान में कितने लोगों को मिलेगा रोजगार

4. गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत कार्यों की सूची

5. गरीब कल्याण अभियान में रोजगार पाने के लिए कहां संपर्क करें

1. गरीब कल्याण रोजगार अभियान क्या है

देश में जब से लॉकडाउन लागू हुआ है तब से लाखों ऐसे प्रवासी है जिनकी नौकरी चली गई है, क्योंकि यह लोग अपना काम छोड़कर अपने राज्य को लौटने पर मजबूर हो गए थे, जिसकी कीमत अब इन्हें रोजगार के इंतजार में चुकानी पड़ रही है। इन्हीं सभी परेशानियों को देखते हुए केंद्र सरकार ने अब इन प्रवासियों को रोजगार देने का जिम्मा उठाया है, जिसकी शुरुआत 20 जून को गरीब कल्याण रोजगार अभियान के रूप में हो चुकी है।

इस अभियान के तहत बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, झारखंड और उड़ीसा के प्रवासियों को शामिल किया जाएगा। राज्य के 116 जिले मुख्य होंगे, जहां के लाखों प्रवासियों को इस अभियान के तहत रोजगार दिया जाएगा।

इस योजना के लिए केंद्र सरकार द्वारा 50000 करोड रुपए खर्च किए जाएंगे और 125 दिनों तक इस अभियान को चलाया जाएगा। जब तक देश में कोरोना की स्थिति पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाती है, तब तक इन प्रवासियों को रोजगार देने का जिम्मा केंद्र सरकार ने उठाया है।

2. गरीब कल्याण रोजगार अभियान में कैसे आवेदन करें

इस अभियान में किसी तरह से आवेदन करने की प्रक्रिया नहीं रखी गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि इस अभियान के तहत खुद प्रवासियों का चयन किया जाएगा, जो जिस क्षेत्र में अपनी काबिलियत दिखाएंगे उसे वहां पर रोजगार के अवसर प्राप्त हो सकते हैं। यह अभियान खास तौर पर केवल प्रवासी मजदूरों के लिए शुरू किया गया है, जिसकी घोषणा वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने की है।

वित्त मंत्री ने बताया है कि कोई भी प्रवासी का नाम इस अभियान से नहीं हटाया जाएगा। बताया जा रहा है कि इस अभियान का लाभ सबसे ज्यादा ग्रामीण क्षेत्र के प्रवासियों को मिलने वाला है।

3. गरीब कल्याण रोजगार अभियान में कितने लोगों को मिलेगा रोजगार

जो भी प्रवासी मजदूर दूसरे राज्य से अपना काम छोड़कर अपने प्रदेश लौटे हैं उन्हें यहां पर रोजगार मुहैया कराया जाएगा। इस अभियान में देश के 6 राज्यों के 116 जिलों को शामिल किया गया है। बताया जा रहा है कि गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत सरकार श्रमिकों को पूरी तरह से सहायता प्रदान करेगी और मिशन मोड के तहत काम करेगी।

करीब 6700000 प्रवासी है, जो इन 6 राज्यों में वापस लौटे हैं जिसमें बिहार के 32, यूपी के 13, मध्य प्रदेश के 24, राजस्थान के 22, उड़ीसा के चार और झारखंड के 3 जिले शामिल है।

4. गरीब कल्याण रोजगार अभियान के तहत कार्यों की सूची

#1. जल संरक्षण और कटाई का कार्य

#2. कुआं का निर्माण

#3. वृक्षारोपण का कार्य

#4. ग्राम पंचायत भवन का निर्माण

#5. राष्ट्रीय राजमार्ग कार्यों का निर्माण

#6. बागबानी आंगनबाड़ी केंद्रों का निर्माण

#7. खेती के लिए तालाबों का निर्माण

#8. पशु शेड का निर्माण

#9. रेलवे वर्मी कंपोस्ट संरचनाओं का निर्माण

#10. बकरी शेड का निर्माण

#11. पीएम ऊर्जा गंगा प्रोजेक्ट

#12. पीएम कुसुम

#13. पोल्ट्री शेड का निर्माण

#14. नेशनल हाईवे का काम

#15. जल संरक्षण

#16. कम्युनिटी सैनिटाइजेशन

#17. सिंचाई का काम

5. गरीब कल्याण रोजगार अभियान में रोजगार पाने के लिए कहां संपर्क करें

जब से लोगों को सरकार की यह योजना के बारे में पता चला है तब से प्रवासी काफी रूप से उत्साहित है, पर उन्हें यह पता नहीं चल पा रहा है कि वह अपना नाम इस सूची में कैसे दें और कैसे आवेदन करें, तो आपको हम सबसे पहले यह जानकारी दे दे कि यहां पर आवेदन करने जैसी कोई प्रक्रिया नहीं है।

आपको इसके लिए सबसे आसान काम करना होगा कि अपने मुखिया से संपर्क करें। आपके गांव का जो भी मुखिया है सबसे पहले आप उनसे संपर्क करें और अपने नाम और पता बताएं और यह भी बताएं कि आपके पास किस तरह के काम में विशेषता है यानी कि आपके क्षेत्र में माहिर हैं, फिर मुखीया आपका नाम ब्लॉक ऑफिस में भेजेंगे।

वही जो प्रवासी स्पेशल ट्रेन से वापस भेजे गए हैं उन्हें भी घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि उनकी भी सूची सरकार के पास है जिस आधार पर उन्हें रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। 50000 करोड़ की लागत में शुरू की जा रही यह योजना प्रवासी को रोजगार देगी और उनकी स्थिति को पूरी तरह से दुरुस्त करने का प्रयास करेंगी।

इसे भी पढ़ें:-

सब्सिडी(Subsidy) क्या है? जानिए आप कौन सी सब्सिडी ले सकते हैं।

Leave a Comment